हमारे बारे में -

के. वी. की उत्पत्तिं

  • शिक्षा के श्रेत्र में अग्रणी भूमिका निभाने वाले केन्द्रीय विद्यालय संगठन की एक इकाई के रूप में केन्द्रीय विद्यालय डी.रे.का., वाराणसी की स्थापना १९७८ ई. में हुई | यह विद्यालय जून १९९६ तक डी.एल.डब्लू परिसर के अस्थाई भवन में चलता रहा | शुरुआत कक्षा पहली से छठवी तक से हुई थी जब ४०० छात्र छात्राएँ पढ़ते थे |

    स्थाई भवन के निर्माण होने के बाद श्री राजेंद्र कुमार जैन जनरल मैनेजर डी.रे.का. वाराणसी के द्वारा इस नवू निर्मित भवन का उद्घाटन दिनांक 6 सितम्बर १९९६ को किया गया | तब से यह विद्यालय इसी भवन में सुचारू रूप से चल रहा है | वर्तमान में विद्यालय कक्षा पहली से दसवीं तक तीन वर्गों में तथा कक्षा ग्यारहवीं और बारहवीं में चार वर्गों (सेक्शन) जिसमे एक कला एक वाणिज्य तथा दो विज्ञान वर्ग की कक्षाएं चल रहीं हैं | और कुल छात्र/छात्राओं की संख्या १७६२ है | केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद् से संबद्ध इस विद्यालय में शिक्षा के अधुनातन निर्देशों एवं प्रावधानों का पूर्ण पालन हो रहा है | हमारा उद्देश्य है कि देश और समाज के लिए ऐसे प्रबुद्ध नागरिक तैयार करें जो सभी मानकों पर खरे उतरें | इस दिशा में विद्यालय के प्राचार्य तथा प्रबुद्ध शिक्षक सतत् प्रयत्नशील हैं |

के. वी. के उद्घाटन की तारीख

  • 1978

उच्चतम कक्षा और हर कक्षा मे अनुभागों की संख्या को मंजूरी

    • कक्षा एक से कक्षा दस - 3 अनुभाग
    • ग्यारहवीं - बारहवीं (साइंस स्ट्रीम) - 2 अनुभाग प्रत्येक
    • ग्यारहवीं - बारहवीं (वाणिज्य) - अनुभाग 1 प्रत्येक
    • ग्यारहवीं - बारहवीं (मानवता) - अनुभाग 1 प्रत्येक

क्षेत्र (सिविल / रक्षा परियोजना / आई. एच. एल.)

  • सिविल सेक्टर

जिला

  • वाराणसी

राज्य / संघ राज्य क्षेत्र

  • उत्तर प्रदेश